Search

You may also like

winkconfused
2639 Views
एक चूत में दो लौड़े
Antarvasna रंडी की चुदाई / जिगोलो हिंदी सेक्स स्टोरी

एक चूत में दो लौड़े

नमस्ते दोस्तो, मैं गुड्डू इलाहाबाद का रहने वाला हूँ। आज

2356 Views
हॉस्टल में वार्डन ने गांडू बनाया
Antarvasna रंडी की चुदाई / जिगोलो हिंदी सेक्स स्टोरी

हॉस्टल में वार्डन ने गांडू बनाया

मेरे जीवन का पहला सेक्स गांड मरवाई का था. मैं

kiss
1843 Views
मां बेटी का लेस्बियन सेक्स और प्यार
Antarvasna रंडी की चुदाई / जिगोलो हिंदी सेक्स स्टोरी

मां बेटी का लेस्बियन सेक्स और प्यार

इस लेस्बियन मजा हिंदी कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी

wink

मेरी अम्मी ने पैसे लेके चुत चुदाई

रंडी की चुदाई की कहानी में पढ़ें कि मैंने अपनी बेवा अम्मी को अपनी ही क्लास के एक लड़के से पैसे लेकर चुदती देखा. मुझे पता लगा कि अम्मी मेरी बहन से भी पेशा करवाती थी.

हाय, मैं आपका दोस्त असलम. मैं फ्री सेक्स कहानी पर रेग्युलर कहानी पढ़ता हूँ. इधर की रसीली सेक्स कहानी पढ़ने के बाद मेरा भी मन हुआ कि मैं अपनी रंडी की चुदाई की कहानी आपके सामने पेश करूं.

दोस्तो, मैं पर्दानशीं परिवार से हूँ. आप तो जानते ही होंगे कि पर्दानशीं औरतें कितनी ज्यादा सेक्सी होती हैं. मेरी फैमिली में मेरी अम्मी अब्बू बहन और मैं हम चार ही हैं.

यह रंडी की चुदाई की कहानी मेरी अम्मी की चुदाई की है. मेरी अम्मी का नाम यास्मीन है. अम्मी की उम्र 41 साल है, लेकिन उनकी फिगर 34-32-36 को देख कर ऐसा लगता है कि अम्मी अभी 32 साल की ही हैं.

मेरी बहन सबीना 19 साल की है. उसका फिगर 32-26-34 का है. वो भी बड़ी हॉट है.

मेरे अब्बू की घर में ही मोबाइल की दुकान थी और हम जहां रह रहे थे, वहां की बस्ती में सभी जातियों के लोग रहते थे. अब्बू की मोबाइल दुकान काफी अच्छी चलती थी.

फिर एक दिन अब्बू को हार्ट अटैक आया और उस वजह से उनका इंतकाल हो गया. मैं तब पढ़ता था.

अब्बू के इंतकाल के बाद घर चलाने की जिम्मेदारी अम्मी पर आ गई. अब मेरी अम्मी अब्बू की दुकान पर बैठने लगी थीं. अब्बू की दुकान पर मोबाइल की बिक्री और रिचार्ज ही होता था, रिपेयरिंग का काम नहीं होता था. इसलिए अब मेरी अम्मी दुकान पर सिर्फ मोबाइल बेचने का काम करने लगी.

मैं भी स्कूल से आने के बाद अम्मी के साथ दुकान पर बैठने लगा था. लेकिन मेरा दुकान में कुछ खास ध्यान नहीं होता था. इस वजह से अम्मी मुझसे बोलती थीं कि बेटा तू अभी अपनी पढ़ाई पर ध्यान दे.

जब से मेरी अम्मी दुकान पर बैठने लगी थीं, तब से हमारी दुकान और भी अच्छे से चलने लगी थी. सभी लोग हमारी दुकान से ही रिचार्ज करवाते.

अब मेरी अम्मी में भी बदलाव आने लगा था. अम्मी टाईट कपड़े पहन कर दुकान में बैठने लगी थीं. वो अब अक्सर लैंगिंग्स कुर्ती पहनने लगी थीं. उनकी इस तरह की ड्रेस में उनका सेक्सी जिस्म और भी उभर कर सामने दिखने लगा था. उनकी कुर्ती काफी खुले गले की होती थी, जिससे उनके मस्त चूचे साफ़ दिखते थे. वो कुर्ती के ऊपर दुपट्टा भी नहीं डालती थीं.

उनके अन्दर ये बदलाव देख कर मेरे मन में शंका होने लगी थी. लेकिन मैं अपनी अम्मी के बारे में कुछ भी गलत नहीं सोचता था. मैं उन्हें देख कर अपना सर झट देता कि ये मेरा वहम है, अम्मी एकदम पाक साफ़ हैं. मैं अपने दिल को ऐेसे ही समझा लेता और उनकी तरफ से कुछ भी ऊटपटांग सीचना बंद कर देता था.

फिर एक दिन मेरे स्कूल का एक दोस्त धीरज मुझसे बोला- असलम मुझे एक एड्रेस तो बता यार.
मैं धीरज से बोला- हां पूछ न!

उसने मुझे वो एड्रेस बताया, तो मैं सन्न रह गया. वो तो मेरे घर का अड्रेस था. मैं मन ही मन सोचने लगा कि यह मेरे घर का पता क्यों पूछ रहा है.

मैंने धीरज से पूछा- अरे तुझे इस एड्रेस पर क्या काम है?
तब धीरज मुस्कुराता हुआ बोला- इस पते पर एक रंडी रहती है, मुझे उसे चोदने जाना है.

उसके मुँह से मैंने ये सुना तो ऊपर से नीचे तक पूरा हिल गया. मैंने मन में सोचने लगा कि इसका मतलब ये हुआ कि या तो मेरी अम्मी या बहन को ही ये रंडी कह रहा है. उन दोनों में से कौन ऐसा हो सकता है.

मैंने धीरज को एड्रेस समझा दिया और उससे पूछा- तू कब जाएगा?
वो बोला- आज स्कूल के बाद जाऊंगा.

मैंने सोच लिया कि मैं भी चुपचाप घर जाऊंगा और देखूंगा कि मामला क्या है. स्कूल छूटने से कुछ पहले मैं अपने घर के लिए निकल गया और घर में बिना आहट किए, मैं अन्दर जाकर छिप गया.

मैंने अम्मी के कमरे के अन्दर झांकने की जगह देखना शुरू की, तो पीछे खिड़की का एक कांच जरा सा टूटा हुआ था. जिसमें से रूम का पूरा नजर देखा जा सकता था. अन्दर क्या बात होती, ये मैं साफ़ सुन भी सकता था.

तभी मैंने देखा कि अम्मी एक टाईट लैगी और कुर्ती पहने हुए घर में काम कर रही थीं. आज मेरी अम्मी ने एक बहुत ही पतले कपड़े की सफ़ेद रंग की कुर्ती पहनी थी और ऊपर से एक ओढ़नी डाल रखी थी. उस समय मेरी बहन ने जींस टॉप पहना हुआ था.

थोड़ी देर में दरवाजा की खड़कने की आवाज आयी. तो मेरी बहन ने आगे जाकर दरवाजा खोला.

सामने धीरज था.
मेरी बहन उसे देख कर मुस्कुराई और बोली- अन्दर आ जाओ.

धीरज अन्दर आया, तो बहन ने दरवाजा बंद कर दिया. अब अम्मी और बहन दोनों कमरे में थीं और धीरज उनके सामने बैठ गया था.

मेरी अम्मी ने उससे सीधे सीधे कहा- मुझसे करना है, तो 3000 लगेंगे और बेटी से करना है, तो 5000 खर्च करना पड़ेंगे.
धीरज ने बेशर्मी से पूछा- दोनों से करूंगा, तो कितना लोगी?
अम्मी ने पेशेवर रंडी के जैसे कहा- हम दोनों से करोगे तो 8 हजार लगेंगे.

धीरज बोला- मुझे आपसे करना, मैं आज 4000 रूपए लेकर ही आया हूँ.
अम्मी बोलीं- ओके … सबीना तू अन्दर जा.

सबीना रूम में चली गई. अब अम्मी और धीरज ही कमरे में रह गए थे. धीरज उठ कर खड़ा होने लगा.

मेरी अम्मी धीरज से बैठने को बोलीं और खुद जाकर उसकी गोदी में बैठ गईं. अम्मी ने अपनी ओढ़नी हटा दी. धीरज मेरी अम्मी के चूचों को दबाने लगा.

वो मेरी अम्मी के एक दूध का निप्पल मींजता हुआ बोला- बड़े मस्त दाने हैं आपके.

मेरी अम्मी ने मुस्कुरा कर धीरज की शर्ट के बटन खोले और उसे उतार दिया. फिर अम्मी ने अपनी कुर्ती उतार दी. अम्मी अब लैगी और ब्रा में ही रह गई थीं. धीरज मेरी अम्मी को किस करने लगा.

अम्मी मस्त आवाजें निकालने लगीं- उम्म … ममह.
धीरज मेरी अम्मी के होंठ काट रहा था.

फिर धीरज ने मेरी अम्मी की लैगी भी उतार दी और अम्मी ने धीरज की पैंट और अंडरवियर दोनों उतार दीं. मेरी अम्मी अब सिर्फ एक लाल रंग की पैंटी में थीं. उनका जिस्म बेहद कामुक था. एक बार को तो मेरा लंड भी फुंफकार मारने लगा. मैं अपने लंड पर हाथ फेरने लगा.

फिर धीरज मेरी अम्मी की गांड पर हाथ घुमाते हुए बोला- आंटी आप बहुत सेक्सी हो.

अम्मी धीरज का लंड हिलाने लगीं. थोड़ी ही देर में धीरज का लंड पूरा खड़ा हो गया. धीरज का लंड 6 इंच का था.

अम्मी उसका लंड देख कर बोलीं- अभी छोटा है.
धीरज बोला- हां आंटी, अभी आपकी चुत में कुछ बार घुसेगा … तो बड़ा और मोटा हो जाएगा.
अम्मी हंस कर बोलीं- हां ये तो है, मगर तेल से मालिश कराया करो, तो जल्दी बड़ा हो जाएगा.

तब धीरज बोला- क्या आप लंड की मालिश करती हो आंटी!
अम्मी बोलीं- हां मैं करती हूँ, लेकिन उसका पांच सौ रूपए एक्स्ट्रा चार्ज लगता है.
धीरज बोला- ठीक है आंटी आज आप मेरे लंड की मालिश भी कर दो.
अम्मी धीरज से बोलीं- ठीक है, तुम सीधे लेट जाओ.

मेरी अम्मी ने पास रखी तेल की बोतल ली और लंड पर तेल टपका कर मालिश करने लगीं.

धीरज के मुँह से गर्म आवाजें निकलने लगीं- आह … आह … बड़ी मस्त मालिश करती हो आंटी. आज पहली बार किसी लड़की ने मेरा लंड हाथ में लिया है.
अम्मी हंसने लगीं.
धीरज मेरी अम्मी से बोला- जरा रगड़ कर मजा दो न मेरी जान. मुँह में भी लो ना मेरी जान.
अम्मी- सब होगा … मैं फ्री का पैसा नहीं लेती हूँ.

अम्मी ने मेरे दोस्त के लंड की मस्त मालिश की. वो अब धीरज का लंड चूसने भी लगीं.

धीरज के मुँह से मादक कराहें निकलने लगीं- आह … ऊफ्फ … बड़ा मजा आ रहा है जान.
वो सीत्कार किए जा रहा था क्योंकि धीरज पहली बार लंड चुसवा रहा था.

मेरी अम्मी लगभग बीस मिनट तक धीरज का लंड चूसती रहीं. धीरज के लंड ने लावा उगल दिया और उसने मेरी अम्मी के मुँह में ही अपने लंड का पानी छोड़ दिया. अम्मी ने उसका पूरा वीर्य खा लिया और लंड को चूस चाट कर एकदम साफ़ कर दिया.

फिर धीरज ने कहा- मैं आपकी चुत चाटना चाहता हूँ.
अम्मी बोलीं- बड़े शौक से चाटो, मैंने कब मना किया है.

अपनी चुत खोलकर अम्मी लेट गईं और धीरज मेरी अम्मी की चूत चाटने लगा.
अम्मी को चुत चटवाने में मजा आने लगा था, वो अपनी गांड उछाल उछाल कर मेरे दोस्त से अपनी चूत चटवा रही थीं.

धीरज मेरी अम्मी की चुत में अपनी पूरी जीभ डाल कर मजे से चुत चूस रहा था. वो मेरी अम्मी की गांड में उंगली भी डाल रहा था.

लगभग दस मिनट तक चुत चाटने बाद मेरी अम्मी धीरज के मुँह में झड़ गईं. धीरज ने मेरी अम्मी की चुत का सारा नमकीन रस चाट लिया.

वो अपने होंठों पर जीभ फेरते हुए बोला- आह आंटी … आपकी चुत का रस बड़ा नमकीन है. मैंने आज चुत का रस पहली बार पिया है.
अम्मी हंस कर बोलीं- हर बार पिया कर, तेरी बॉडी भी बन जाएगी. इसमें बड़ा प्रोटीन होता है.
धीरज ने हंस कर मेरी अम्मी के दूध दबाए और बोला- तभी लंड का रस आपकी जवानी पर असर दिखा रहा है.
अम्मी भी हंस दीं.

कुछ देर यूं ही एक दूसरे को चूमने चाटने के बाद वे दोनों फिर से गर्म हो गए.

अब मेरी अम्मी बिस्तर पर चित लेट गईं और धीरज मेरी अम्मी की चूत में लंड डालने लगा. वो साला पहली बार चुत चुदाई कर रहा था, तो उसका लंड चुत के अन्दर ठीक से जा ही नहीं पा रहा था. उसका लंड अभी कोरा था. वो पहली बार किसी की चुत में लंड पेल रहा था.

कुछ देर तक धीरज मेरी अम्मी की चुत में लंड घुसेड़ने की कोशिश करता रहा.

तब अम्मी ने झुंझला कर धीरज का लंड हाथ में पकड़ा और अपनी चूत पर सैट करके कहा- अब डाल भी दे ना!

धीरज ने धक्का देकर अपना लंड चुत में घुसा दिया. लंड अन्दर घुसा तो अम्मी को चैन मिल गया मगर धीरज की दर्द से आह निकल गई. उसकी आंखें मुंद गई थीं.

अम्मी समझ गई थीं, वो बोलीं- थोड़ा अन्दर बाहर कर, तेरा दर्द खत्म हो जाएगा. आज तेरे लंड का धागा टूटा है.

वो मेरी अम्मी की चुत में लंड आगे पीछे करने लगा. तीन चार झटकों में ही उसे मजा आने लगा और वो बोला- आह .. आंटी आपकी भट्टी बड़ी गर्म है.
मेरी अम्मी ने कहा- जरा देर यूं ही लंड अन्दर पड़ा रहने दे, इसकी गर्मी का मजा ले ले.

धीरज से लंड अन्दर पड़ा रहने दिया. उसे चुत की गर्मी बेहद मजा दे रही थी.

फिर वो लंड चुत में अन्दर बाहर करने लगा. शुरू में वो मेरी अम्मी को धीमे धीमे चोदने लगा.

करीब पचास धक्कों के बाद मेरी अम्मी बोलीं- आह साले अब जोर से अन्दर बाहर कर … मुझे भी आग लग रही है.
धीरज ने मेरी अम्मी के चूचे मसले और चुदाई की स्पीड तेज कर दी.

मगर मैं देख रहा था कि मेरी अम्मी को धीरज के 6 इंच के लंड से कोई असर ही नहीं हो रहा था. अम्मी मजे से हंसते हंसते उससे चुदवा रही थीं.

लगभग बीस मिनट बाद धीरज ने अपने लंड का पानी मेरी अम्मी की चूत में छोड़ दिया और उनके ऊपर ढेर हो गया.

वो एक मिनट बाद मेरी अम्मी के ऊपर से उठ कर उनके बाजू में लेट गया. मेरी अम्मी की प्यास शायद अभी बुझी ही नहीं थी. इसलिए मेरी अम्मी फिर से उसका लंड हिलाने लगीं.

कुछ दस मिनट में धीरज का लंड फिर से खड़ा हो गया. अब अम्मी औंधी लेट गईं और धीरज ने ऊपर चढ़ कर मेरी अम्मी की चौड़ी सी गांड में लंड पेल दिया. वो मेरी अम्मी की गांड मारने लगा .. और गपागप करते हुए अम्मी की गांड ठोकने लगा.

दस मिनट तक गांड मारने बाद धीरज के लंड का पानी निकलने लगा और उसने सारा लंड रस मेरी अम्मी की मखमली गांड में ही छोड़ दिया.

वो लंड निकाल कर हांफता हुआ बोला- आंटी, बहुत मस्त लगा, अगली बार आपकी बेटी को चोदूंगा. लेकिन मुझे आप अपनी ऐसे में ही एक फोटो दोगी?
अम्मी हंस कर बोलीं- क्यों फोटो का क्या करेगा? क्या रात को फोटो देख कर मुठ मारेगा!
धीरज हंसने लगा और बोला- हां वो भी करूंगा और आपके लिए एक ग्राहक भी लाऊंगा.

अम्मी ने ग्राहक की बात सुनी तो बोलीं- हां … अभी ही खींच लो.
धीरज ने अपने मोबाइल से मेरी अम्मी की नंगी फोटो खींच ली और कपड़े पहन लिए.

फिर उसने अम्मी को चुदाई के पैसे दिए और चला गया.

अगली बार वो मेरी बहन की चुत चुदाई करेगा. तब वो रंडी की चुदाई की कहानी में आपको लिख कर बताऊंगा. हो सकता है कि अगली बार वो किसी और को भी साथ ले आए और वो दोनों मेरी अम्मी और बहन की एक साथ चुदाई का मजा लें.

दोस्तो, आपको मेरी रंडी की चुदाई की कहानी कैसी लगी. मुझे कमेंट पर जरूर बताएं.

Related Tags : Chudai Ki Kahani, Gand Ki Chudai, Kamvasna, Mom Sex Stories, Oral Sex, रंडी की चुदाई की कहानियाँ
Next post Previous post

Your Reaction to this Story?

  • LOL

    6

  • Money

    3

  • Cool

    1

  • Fail

    2

  • Cry

    2

  • HORNY

    5

  • BORED

    0

  • HOT

    6

  • Crazy

    3

  • SEXY

    8

You may also Like These Hot Stories

winkstarhappystar
12984 Views
रसगुल्लों के बदले मिला दीदी का गर्म जिस्म
अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी

रसगुल्लों के बदले मिला दीदी का गर्म जिस्म

मैं अपने दोस्त की बहन को अपनी बहन मानता था.

1497 Views
गर्लफ्रेंड की गांड गार्डन में चोदी
हिंदी सेक्स स्टोरी

गर्लफ्रेंड की गांड गार्डन में चोदी

  दोस्तो, सबसे पहले आप सभी का धन्यवाद. जिन्होंने मेरी

3401 Views
मेरी दूसरी बीवी संग सुहागरात- 1
हिंदी सेक्स स्टोरी

मेरी दूसरी बीवी संग सुहागरात- 1

सेक्सी वाइफ की कहानी में पढ़ें कि मेरी बीवी की