Search

You may also like

0 Views
बिन शादी के बना बाप
चुदाई की कहानी

बिन शादी के बना बाप

औरत की चुत चुदाई कहानी में पढ़ें मेरी दोस्त ने

263 Views
दीदी की चुत में मेरे पति का लंड-1
चुदाई की कहानी

दीदी की चुत में मेरे पति का लंड-1

दोस्तो नमस्कार, मैं आप लोगों की प्यारी हॉट मधु …एक

1239 Views
दो जिस्म इक जान हो गए हम दोनों – 2
चुदाई की कहानी

दो जिस्म इक जान हो गए हम दोनों – 2

सेक्स लव स्टोरी इन हिंदी में पढ़ें कि प्यार के

मौसेरी बहन की नाजुक चूत को लंड का मजा दिया- 2

देसी Xxx स्टोरी में पढ़ें कि मैं और बहन एक दूसरे के गर्म जिस्म से ओरल सेक्स का मजा ले चुके थे.पानी निकाल चुके थे. हमें चुदाई का मौका कैसे मिला?

दोस्तो, मैं अमित अपनी कज़न सिस्टर की चुदाई की कहानी का अगला अंक लाया हूं. देसी Xxx स्टोरी के पिछले हिस्से
मेरी मौसेरी बहन की अन्तर्वासना
में मैंने बताया था कि कैसे मैं मौसी के घर गया और मैंने हॉलीवुड सेक्स मूवी दिखाकर मौसेरी बहन को गर्म किया.

फिर जब मौसी बाजार गयी तो मैंने मीना को पीछे से पकड़ लिया और उसको नंगी करवा कर उसके बदन को चूमने लगा. वो भी मदहोश होती चली गयी.

अब आगे की देसी Xxx स्टोरी:

हम दोनों एक दूसरे में पूरे खो चुके थे।

20 मिनट तक एक दूसरे को चूमने के बाद हम अलग हुए और मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए.
फिर मीना को अपनी बांहों में उठा कर मैंने सोफे पर लेटा दिया.

फिर खुद भी उसके ऊपर आ गया और फिर से उसको चूमने लगा; फिर उसकी चूचियों को दोनों हाथों से दबाने लगा; कभी कभी उसकी निप्पल को अपने मुँह में लेकर चूसने भी लगा.

उसकी निप्पल पूरी तरह से तन चुकी थी। मीना तो मज़े में पागल हो चुकी थी। मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूचियों पर दबा रही थी।

मैं भी मीना को पूरी तरह गर्म करना चाहता था ताकि मैं उसकी चूत में उंगली डाल कर उसकी चूत को लन्ड डालने के क़ाबिल बना दूं।

मीना गर्म होने लगी थी और सिसकारियां लिये जा रही थी- आह्ह … ओ … ओ … ओह्ह … अमित … बहुत मजा आ रहा है … बस ऐसे ही करते रहो. मेरी चूची चूसते रहो.

साथ ही अब वो अपने चूतड़ों को हवा में उठाने भी लगी थी.
थोड़ी ही देर में वो बोली- जान … मेरी चूत का कुछ करो. अब मुझसे रुका नहीं जा रहा. मेरी चूत का पानी निकाल कर इसको शांत करो.

मैं उठा और मौसी के रूम में जाकर लोशन की बोतल ले आया.

वो पूछने लगी- लोशन किसलिए?
तो मैंने कह दिया- चूत की आग को आज में उंगलियों से शांत करूंगा. कल मैं तुम्हारी चूत का उद्घाटन लंड से करूंगा. तुम तैयार हो ना?

वो बोली- जो करना है जल्दी करो और ज्यादा दर्द मत करना. थोड़ा आराम से करना. कल से हम दोनों घर पर अकेले ही रहेंगे. फिर तुम जैसे चाहो कर लेना.

मैं उसको चूमने लगा और फिर उसको उठा कर मौसी के कमरे में ले गया. मैं उसको बेड पर लिटा कर उसकी चूत चाटने लगा.
मीना फिर से गर्म हो गई और उसकी चूत पानी छोड़ने लगी.

अपनी एक उंगली पर मैंने लोशन लगाया और थोड़ा उसकी चूत पर लगा दिया और एक उंगली उसकी चूत में डाल दी.
उसको ज्यादा दर्द नहीं हुआ.

फिर मैंने एक उंगली और डाली तो उसको थोड़ा दर्द हुआ.
उसकी आह निकल गयी.

फिर मैं धीरे धीरे उसकी चूत में दो उंगली से ही चोदने लगा.
कुछ देर के बाद उसे मजा आने लगा. वो कहने लगी- आह्ह … अमित … थोड़ी तेज करो ना … बहुत मजा आ रहा है.

मैं भी अपनी उंगली को तेजी से अंदर बाहर करने लगा।
मीना मज़े में अपनी चूची दबा रही थी और उसकी आंखें बंद थीं.

तो मैंने लोशन अपनी उँगलियों पर लगा कर तीसरी उंगली भी उसकी चूत में डाल दी.
वो अब दर्द में चिल्ला उठी.

मैंने उसकी हालत पर ध्यान ही नहीं दिया और उंगली को डाले रहा.

मैं उसे चूमने लगा. फिर वो थोड़ी शांत हुई और मैं फिर से उंगली चलाने लगा.

कुछ ही देर हुई थी कि उसकी टांगें कांपने लगीं. मैं फिर अपने हाथ को तेजी से चलाने लगा.

इतने में ही उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. मैंने उसकी चूत का पानी चाट कर साफ कर दिया.

फिर मैं मीना को चूमने लगा और उसको अपनी बांहों में उठाकर बाथरूम में ले गया और शॉवर चला कर उसके नीचे खड़े हो कर मीना को लन्ड अपने मुँह में लेने को कहा.
उसने तुरन्त ही मेरा लन्ड चूसना शुरू कर दिया.

थोड़ी ही देर में मैं उसके मुँह में ही झड़ गया। फ़िर हम दोनों ही एक दूसरे के होंठों को चूमने लगे। उसके बाद नहा कर अपने कपड़े उठाये और नंगे ही ऊपर कमरे में चले गए।

हम नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर बातें करने लगे और प्लान करने लगे कि कल जब मौसी चली जायेगी तो उनके जाने के बाद क्या करना है.

मैंने मीना को पूछा- तुम्हारी कोई इच्छा है सेक्स के बारे में बताओ।
मीना बोली- मेरी एक कॉलेज की दोस्त है तो उसने मुझे बताया कि बियर या दारू पीकर सेक्स करने में बहुत मज़ा आता है. मैं भी यही चाहती हूँ कि चुदाई का खूब मजा लूं इन तीन चार दिनों में.

वो आगे बोली- जैसे ब्लू फिल्म में 20-30 मिनट तक चुदाई होती है उतनी ही देर करना तुम भी. वैसे तुम्हारी भी तो कोई इच्छा होगी सेक्स में? तुम बताओ अपनी?

मैं- मैं तो बस तुम्हें दिन रात चोदना चाहता हूँ. कल से हम कोई कपड़ा नहीं पहनेंगे. जब तक अकेले हैं घर में, हम नंगे ही रहेंगे ताकि जब मन हो, चुदाई कर लें.

मैंने आगे बताया- मेरी एक खास तमन्ना है कि मैं तुम्हारी गांड भी मारूं क्योंकि मुझे तुम्हारी गांड बहुत पसंद है. जब तुम चलती हो तो मेरा लन्ड खड़ा होने लगता है।

फिर थोड़ी बातें करते करते समय बीत गया और मौसी भी आने वाली थी.
हमने कपड़े पहन लिये.

नीचे आकर मैं टीवी देखने लगा और मीना ऊपर ही रह गयी.

थोड़ी देर के बाद मौसी आ गयी.
उसके बाद हमें मौका नहीं मिला.

फिर अगले दिन वो लोग जाने लगे. जाते समय मौसा जी ने 3000 रुपये हमें दे दिये ताकि हमें किसी चीज की जरूरत हो तो लाई जा सके.

सुबह 11 बजे उनकी ट्रेन थी तो हम सभी स्टेशन गए।

उनको ट्रेन में बैठा कर हम सामान लाने बाजार की तरफ चल दिये और सबसे पहले दारू के ठेके पर जाकर हमने 12 बियर के कैन लिए.

फिर मेडिकल स्टोर से मैंने सेक्स पावर वाली गोली और कॉन्डम तथा गर्भ निरोधक गोली भी ले ली.
थोड़ा बहुत खाने के लिए भी लिया और घर आ गए।

घर आते ही पहले तो अपने कपड़े उतार दिए.
फिर खाना खाया और एक दूसरे की बांहों में सो गए क्योंकि आज पूरी रात जागना था.

हम दिन भर नंगे सोते रहे क्योंकि रात का पूरा फायदा उठाना था.

जब तक उठे तो शाम के 7 बजे हुए थे।
उठ कर हम फ्रेश होकर एक साथ नहाए और फिर नीचे जाकर रात की तैयारी की.
हमने नीचे वाले रूम में ही रहने का सोचा था.

बेड पर लाल चादर बिछा दी ताकि बीच में कोई पड़ोसी या पड़ोसन आ टपके तो किसी को कुछ भी पता न चले कि बेड पर चुदाई होती है.

मीना फ्रीज से 2 बियर ले आई और हम बियर पीने लगे.

वो बहुत कम पीती थी तो उसको चढ़ने लगी.

हमने अभी एक एक ही बोतल पी थी.
तो मैं गया और 2 बियर और ले आया.

मैंने बाहर ही दोनों बियर में सेक्स पावर वाली गोली डाल दी थी।

जैसे ही मीना ने दूसरी बियर पीना शुरू किया मैंने उसको गर्म करना शुरू कर दिया.
गोली हम दोनों पर असर कर रही थी।

जैसे ही बियर खत्म हुई हम दोनों एक दूसरे पर टूट पड़े और बुरी तरह एक दूसरे को चूमने लगे।

मैं चाहता था कि मीना खुद ही मेरा लन्ड अपनी चूत में डाले, यही सोच कर मैंने उसको गर्म करना शुरू कर दिया.
बियर और गोली ने यह काम आसान कर दिया था.

मैं उसकी चूत सहला रहा था.
वो बोली- अब भी हाथ से ही करेगा क्या? मैं कितने दिन से इस पल के इंतजार में थी. अब मुझे चूत में लंड का मजा लेना है. मेरी चूत में लंड डालकर इसकी सील तोड़ दो.

मैंने भी लोशन लिया और अपने लन्ड और उंगली से उसकी चूत के अंदर लगा दिया.
फिर उसके ऊपर लेटते हुए अपने होंठों को उसके होंठों पर रख कर उसका मुंह बंद कर दिया.

मैंने लन्ड को बहन की चूत पर रख कर धक्का मारा तो लन्ड फिसल गया.
दो बार फिर वही हुआ.

तो मैंने उसकी टांगों के बीच आकर हाथ से लन्ड पकड़ा और उसकी चूत पर सेट किया.
फिर धीरे धीरे जोर लगा कर थोड़ा अंदर डाला तो उसकी थोड़ी चीख निकल गई।

फिर मैंने उसके ऊपर लेटकर उसके हाथ पकड़ लिए ताकि वो हिले नहीं. उसके बाद मैंने एक और जोर का झटका मारा तो लन्ड थोड़ा और अंदर गया.

वो चिल्ला उठी- ओ … ओ … ईईई … उऊऊ … ऊईई … अमित … प्लीज बाहर निकाल … बहुत दर्द हो रहा है.
मैंने उसकी बात अनसुनी करके एक और झटका मारा.

वो रोने लग गयी.

थोड़ा रुक कर मैं उसके बदन को सहलाने लगा और उसकी चूची को अपने मुँह में लेकर उसका दर्द कम करने लगा.
दूसरे ही झटके से उसकी सील टूट गई थी, तो अब मुझे कोई फिक्र नहीं थी।

जैसे ही वो शांत हुई तो मैंने उसे बोला- अब सिर्फ एक बार और दर्द होगा. वैसे भी तुम अब कुँवारी नहीं हो. सील टूट चुकी है।
फिर अब मैं धीरे धीरे से लन्ड अंदर बाहर करने लगा.

5 मिनट बाद मीना को भी मज़ा आने लगा.
अब समय था पूरा लंड अंदर तक डालने का; तो मैंने धीरे धीरे रफ्तार तेज कर दी और एकदम से जोर लगा कर अपना पूरा लन्ड उसकी चूत में डाल दिया.

वो फिर तड़प उठी और मुझे गाली देने लगी.
मैंने भी उसको अनसुना कर दिया और तेज़ी से अपना लन्ड उसकी चूत में पेलने लगा.

गोली का असर अब पूरा था दोनों पर.
फिर चुदते हुए मीना मजा लेने लगी और वो भी अपनी गांड हवा में उठा कर मेरा साथ देने लगी।

चुदाई के दर्द के कारण मीना पर बीयर का असर कम होने लगा था और मेरा नशा भी ढीला पड़ चुका था.

बीच में चुदाई रोक कर हम बीयर पीने लगे.
हमने एक ही बोतल से पी.

फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर सेट करके एक जोर का झटका दिया. पूरा लंड एक ही बार में अंदर घुस गया.
मीना- बहन चोद … आराम से कर … मैं कहीं भागी नहीं जा रहीं हूँ. देख मेरी चूत की क्या हालत की है तेरे लंड ने … पूरे बेड पर खून ही खून कर दिया।

मैं- मेरी जान … आज का दिन ही तो खास है, यही पल तो तू याद करेगी कि कैसे मैंने तेरी कुंवारी चूत को फाड़ा था।

हमको चुदाई करते हुए काफी देर हो गयी थी.
अब तो मीना भी मेरे हर शॉट का जवाब अपनी गांड को उठा कर दे रही थी।

अब वो समय आ गया था जब हम दोनों झड़ने वाले थे.

अपनी रफ्तार मैंने तेज कर दी. वो भी मदहोश होती चली गयी.

चुदाई का चरम आ गया और मैंने पूरी ताकत से उसकी चूत को फाड़ना शुरू कर दिया.
उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और मीना ने मेरी पीठ को नाखूनों से नोंच डाला.

इतने में ही मेरे लंड ने पूरे वेग के साथ वीर्य उसकी चूत में उड़ेल दिया.
उसी वक्त उसकी चूत ने भी बौछार कर दी.
दोनों ओर से वीर्य की बरसात हो गयी और हांफते हुए दोनों एक दूसरे से लिपट गये.

मीना- अमित मेरी जान … तुम्हारे लन्ड के पानी ने तो चूत शांत कर दी मेरी। बहुत मज़ा आया तुमसे चुदवा कर। मगर अभी भी दर्द हो रहा है और जलन भी।
मैं- कोई बात नहीं जान. आज आज का दर्द है. उसके बाद कभी नहीं होगा.

चुदाई करते हुए काफी समय हो गया था। हम थक चुके थे और एक दूसरे से चिपक कर एक दूसरे का ज़िस्म सहलाने लगे.

थोड़ी देर में मीना बोली- मुझे पेशाब आ रहा है.

वो जाने लगी पर जब वो खड़ी हुई तो उससे चला नहीं जा रहा था.
मैंने उसे अपनी बांहों में उठाया और बाथरूम में ले गया।

जब वो पेशाब कर रही थी तो उसकी चूत में जलन होने लगी।

पेशाब करवाने के बाद मैं उसे वापस ले आया और उसकी चूत पर और क्रीम लगा दी ताकि जलन न हो.

यह सब करते करते 9 बज गये. मैंने रात का खाना बाहर से मंगवाया.

खाना खत्म हुआ तो फिर से मैं चुदाई के मूड में आ चुका था.
मीना- मुझे पहले नहाना है, उसके बाद चुदाई करना. अभी नहीं।
मैं- तो फिर दोनों साथ में नहाते हैं. मज़ा भी आएगा।

बियर का पूरा नशा खत्म हो गया था. सिर्फ सेक्स वाली गोली का असर था तो मेरा लन्ड खड़ा होने लगा।

नहाते समय मेरा लन्ड पूरी तरह टाइट हो चुका था और फिर मैंने मीना की चूचियां अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया.

ऊपर से मीना के जिस्म पर ठंडा पानी गिर रहा था और इधर से मैं उसकी चूचियों को मसल रहा था.

मीना पूरी गर्म हो गई थी और मेरे लंड को हाथ में लेकर हिलाने लगी- अब बर्दाश्त नहीं होता. जल्दी से अपने इस मूसल लन्ड को मेरी चूत में डालो। फाड़ दो आज मेरी चूत को चोद चोदकर।

मैं भी उसकी बात सुन कर जोश में आ गया औरर उसको दीवार के पास घोड़ी बना दिया.
फिर एक झटके में ही पूरा लन्ड उसकी चुत में डाल दिया।

लन्ड डालते ही वो दर्द चिल्ला उठी. मैंने फिर एक बार पूरा लन्ड निकला और एक झटके में ही पूरा अंदर डाल दिया।
मीना- आह … मर गई … आह… धीरे कर … जान निकाल दी हरामी.

फिर मैं ज़ोर ज़ोर से अपना लन्ड उसकी चूत में पेलने लगा. वो आह्ह … आह्ह … की आवाज निकालने लगी. थोड़ी ही देर में उसकी चूत पानी छोड़ने वाली थी.

मीना के कहने पर मैंने अपनी स्पीड ट्रेन की तरह तेज कर दी।
8-9 घस्से मारने के बाद उसके पैरों में कंपन शुरू हो गई और इसके साथ ही वो झड़ने लगी।

5 मिनट और चुदाई करने के बाद मैं भी उसकी चूत में झड़ गया और फिर हम आराम करने लगे. उसके बाद मैंने मीना को चार दिन तक न जाने कहां कहां और किस किस पोज में चोदा.

उसको मेरे लंड का ऐसा शौक लगा कि अब वो मुझे बुलाती रहती है. जब भी मौका मिलता है मैं उसके घर जाकर उसकी चूत मार लेता हूं. कई बार वो भी हमारे घर आ जाती है मौसी के साथ. हम दोनों खूब मजा करते हैं.

आप सभी को मेरी मौसेरी बहन की चुदाई की कहानी कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताना। अगर आप सभी का पॉजिटिव रिव्यू आया तो मैं आगे जरूर लिखूंगा।

Related Tags : इंडियन सेक्स स्टोरीज, कुँवारी चूत, चूत में उंगली, भाई बहन की चूत चुदाई, हिंदी एडल्ट स्टोरीज़
Next post Previous post

Your Reaction to this Story?

  • LOL

    0

  • Money

    0

  • Cool

    0

  • Fail

    0

  • Cry

    0

  • HORNY

    0

  • BORED

    0

  • HOT

    0

  • Crazy

    0

  • SEXY

    0

You may also Like These Hot Stories

confused
312 Views
अंधेरे में चुद गई अनजान मर्द से
कोई मिल गया

अंधेरे में चुद गई अनजान मर्द से

दोस्तो, मेरा नाम सुनीता शर्मा है, और मैं अभी 37

823 Views
जमींदार के लंड की ताकत- 1
चुदाई की कहानी

जमींदार के लंड की ताकत- 1

सास चुदाई की कहानी में पढ़ें कि एक रोबीला जमींदार

592 Views
चलती बस में रात भर चुदी (AUDIO SEX STORY)
चुदाई की कहानी

चलती बस में रात भर चुदी (AUDIO SEX STORY)

प्रिय पाठको, इस कहानी में ऑडियो स्टोरी जोड़ी गयी है.